Followers

रविवार, 5 अगस्त 2012

Dear Friends,

Recently I wrote an article namely "Human Rights for Whom" which is available online on the link below.

http://www.rakshakonline.com/2012/07/human-rights-are-for-whom/

Human rights are for whom?

by Kumar Vishwajeet, I.P.S.

Kumar Vishwajeet, I.P.S.

Human rights are not a new subject today. Every country talks about it, but do the common people know about it? Let us examine it, because it is not a matter which can be neglected nowadays. So what are human rights?
As far as a common perception of a common man is concerned; human rights are those rights of a human, which cannot be alienated from a human being for being human. That means it is applicable everywhere and it is the same for everyone.
The Universal Declaration of Human Rights (UDHR) of 1948, which was adopted after the end of the Second World War, in its Article 1, says, “All human beings are born free and equal in dignity and rights. They are endowed with reason and conscience and should act towards one another in a spirit of brotherhood.”
But is it so? There are plenty of human rights organisations in the world. They are doing a good job in projecting the issues related to human rights giving at least some pictures of such acts, which can affect human rights in general.
In India, we have the National Human Rights Commission (NHRC) and the State Human Rights Commissions (SHRCs) to ensure human rights propels growth and development of mankind. We also have several forums taking initiatives about human right violations in the country.
But do we really apply our mind before taking up this very important issue? Let us examine few incidents and try to answer this question. With genuine issues like abolition of bonded labour, right to health, rights of disabled, among others, one can be presumably right to say that we are heading towards a new road and goal.
I again ask is that so? The answer is a big No. Because many at times, even the Hon’ble Supreme Court of India and the High Court’s of our country also come to the picture and give certain judgments, where one is forced to think that the human rights are for whom?
For example, any exchange of fire that takes place between police and Maoists. When a policeman is killed no one speaks about human right violations, but if a naxalite is killed and all such forums gangs up and protests such killing. One can see on several occasions that a single policeman on duty was murdered by the naxalite in broad day light and it becomes one moment news item and vanishes in the air.
A policeman is killed when he is performing duty at examination bandobust without weapon and no one speaks. Several officers and men are blasted, while patrolling in the naxalite infested areas and people read the newspaper and keep it aside. When there is an exchange of fire where some naxalite and policemen are killed human rights forum only talk about human rights of naxalites. What can you say about it?
As far as my knowledge and understanding goes, human rights are meant for all and the same shall apply for every individual of this world. But do we really bother to say this? One such example, I remember vaguely and I do not want to go in exact details because it is not important to remember them. What is important is the essence.
In 1995, on the holy day of Eid-al-Azha (May 10), Indian Armed Forces desecrated and destroyed 14th century Muslim shrine of Sheikh Noorud-Din Wali, a patron saint of Kashmir in the city of Charar-e-Sharief, about 30 km southwest of the capital Srinagar.
In the army operation to flush out Kashmiri militants holed up since mid-January in the town of Charar-e-Sharief, at least 2000 residential houses and 200 shops were razed to the ground. But the fact was written by another organization.
Charar-e-Sharif, due to its location on the slopes of the Pir Panjal range, was mostly bypassed by the insurgency. Occasional militant groups took shelter there. In the winter of 1994, a lashkar led by ‘Major’ Mast Gul, who was a Pakistani fanatic, sought refuge here.
As soon as the administration and security forces heard of his arrival, a bureaucratic wrangle took place as to what action to take. When the army established a cordon around and began ‘Psy Ops’, the militants likewise strengthened their defenses. The militia had romanticized Mast Gul, an illiterate low IQ terrorist was depicted all across as a valiant Islamic mujahid, invincible, ruthless and the savior of Islam.
The army and administration in panic banned the media from Charar-e-Sharif. As a result, there was no third/neutral party to record the events that followed. The militants after a prolonged psychological battle started the explosions in the shrine. As the walnut wood shrine exploded in flames, the militants escaped in the confusion and panic. The result was an explosion of Kashmiri anger at what they.
It was a fact that the 40 militants hold up in the shrine took the advantage of this fire and escaped into the town. The army and the civil administration did a good job and 27 militants were killed in that exchange of fire, but not a single civilian was hurt or killed. But then human right forums cried about this incident like anything blaming army, police, civil administration and the Government of India.
Far from instilling confidence in the public, a police officer following a ‘right procedure’ eroded everyone’s Trust, the foundation on which justice depends. The scripted guidelines, put in place to ensure that the police conduct operations properly, have become a barrier to good sense and common humanity.
Correct procedure, in its narrowest sense, was well followed by the administration and security forces in the case of Charar-e-Sharif, but it failed to irk a positive perception from the Kashmiri people, who perceived that the Army destructed the shrine. The process of accountability, so essential to public confidence, has produced the very reverse of what was needed.
Not only this when these militants were holed up in the shrine, the army and the police lay siege the shrine, but could not enter because no one wanted to hurt the sentiments of the community.
As a strategy food supply was cut, but one such organization approached the Delhi High Court and a judgment was passed to supply water and the food articles to the militants and the quantity was also specified as a human right issue was involved. The army was on roads for several months, but none spoke about them.
So it is not surprising that the police is facing a crisis of confidence. One has to start thinking about it that these human rights are for whom? In the guise of human rights are we helping all those who are the violators of these instead of those who actually require them. It is a matter of debate. Arguments and counter arguments are possible, but we have to think that it should be used and not misused.

रविवार, 13 मई 2012

पानी हाय रे पानी (हास्य व्यंग)

पानी हाय रे पानी

‘सूँ ऽ सूँ ऽ’ की आवाज़ के साथ ही चक्रधर बाबू की नींद खुल गई। तेजी से उठकर भागे। वह भी ऐसे जैसे कि आज नहीं भागे तो ज़िन्दगी नहीं रह पाएगी। अंधेरा काफी गहरा था और उस काले अंधेरे में रास्ते में रखी एक तिपाई से टकरा गए। ‘हाय मार डाला’ के साथ उनकी चीख उभरी।

वह चीख सुनकर उनकी पत्नी भी जाग उठी। वह भी ‘क्या हुआ, क्या हुआ’ की रट लगाती उनके पीछे भागी आई। तो चक्रधर बाबू बोले - ‘अरे मुझे छोड़ो मोटर ऑन करो। आज तीन दिन बाद तो पानी आने वाला है।’

वे यह कहकर अपना दर्द पी गए। पानी पीने को नहीं मिलता तो दर्द ही पीना पड़ता है।

चक्रधर बाबू अकेले नहीं थे, जिन्हें पानी की दरकार थी। सारे मोहल्ले में पिछले तीन दिनों से पानी नहीं आया था। सब के सब मुँह बाये जल-निगम को कोस रहे थे। सड़ी-सी गर्मी और पानी की एक बूंद नहीं। घेराव, प्रदर्षन, रास्ता रोको आदि तो आम बात है ही। इस बार भी हुए। लगातार हुए। दिनों-सप्ताहों तक लोग सड़क पर अड़े रहे। प्रशासन के सामने पड़े रहे। लेकिन इस बार उनकी किसी ने नहीं सुनी। प्रशासन तो जैसे अंधी और बहरी थी। उसे न कुछ दिखाई देता था और न सुनाई। हाय-हाय हुई। ईश्वर और अल्लाह की दुहाई दी गई, लेकिन सबकुछ बेकार चला गया था।

चक्रधर बाबू सोचों की दुनिया में गोता लगाने लगे। पिछली बार जब ऐसा हुआ था तो लोगों ने खूब तोड़-फोड़ की थी। और फिर एक सप्ताह तक पानी नहीं आया था। आता भी कैसे ? लोग बेलगाम हो गए थे। जगह-जगह पाइपों में छेद करके पानी निकालने लग गए थे और फिर पाइप ही टूट गई। फिर पानी बहता रहा और लोग मुँह ताकते रहे। कहीं इस बार भी ...। चक्रधर बाबू सिहर गए। पत्नी पर भरोसा नहीं था। खुद ही जतन कर उठ गए और स्विच ऑन की, लेकिन मोटर नहीं चला। चलता भी कैसे ? बिजली ही नहीं थी। इस बार यही तो हो रहा था। जब पानी आता तो बिजली नहीं आती और जब बिजली रहती तब पानी नहीं आता था। ऐसा प्रतीत होता था कि जैसे बिजली एवं पानी विभागों में कोई मिली-भगत थी। किसी ने सच ही कहा है - चोर-चोर मौसेरे भाई।

उन्हें याद आया कि कितने जतन के बाद बड़ी मुश्किल से पैसे जुटाकर उन्होंने पानी का मोटर खरीदा था। दरअसल पानी इतने कम ‘प्रेशर’ से आता था कि चार बाल्टी ही भर पाती थी। उसी से नहाना भी था और पानी भी पीना था। थक-हारकर जल-निगम से शिकायत की। पहले तो किसी ने सुनी नहीं। हाथ जोड़े, पैर पकड़े फिर भी काम नहीं बना। हाथ ढीला किया तो एक अधिकारी बोला - ‘बिना मोटर के पानी नहीं आएगा। सभी मोटर लगाकर खींच लेते हैं।’ और फिर उन्होंने भी मोटर लगा ली। पानी फिर भी उतना ही आया। ऊपर से बिजली का बिल भी बढ़ गया।

एक बार फिर से जल-निगम के पास गए। सुनवाई होने में काफी वक़्त निकल गया। घर में पानी की हालात में सुधार की गुंजाइश थी, लेकिन सुनने वाला कोई नहीं था। फिर एक दिन एक बड़े अधिकारी से मिले तो वे उनके मोटर लगाने की बात पर ही भड़क गए। बोलने लगे - ‘यही तो खराबी है आप लोगों में। जब मोटर लगाना वर्जित है तो आप लोग कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं? ऊपर से शिकायत भी करने आ जाते हैं कि पानी नहीं आता है। जब आप मोटर लगायेंगे तो दूसरों को पानी कैसे आएगा? मुझे तो आप पर ही कार्यवाही करनी चाहिए कि आपने मोटर लगाकर अवैध काम किया है।’

चक्रधर बाबू सकते मे आ गए थे। शिकायत करने आए थे और यहाँ तो उलटा ही उन पर कार्यवाही की बात होने लगी थी। थोड़ा लेन-देन करके मामला वहीं का वहीं दबा गए थे और किसी तरह जान छुड़ा कर आना मुँह लिए वापस आ गए थे। चलते समय उनके दुःख को भाँप कर एक छोटे अधिकारी ने समझाया था कि अब पाइप में तो उतना ही पानी था, जितना पहले आता था। मोटर लगाने से केवल खींच-तान ही हो सकती थी। हार्स पावर बढ़ाने का सलाह दिया गया, लेकिन अब वे और अधिक पैसे खर्च करने की स्थिति में नहीं थे। फिर उन्हें भरोसा नहीं रह गया था कि उसके बाद भी पर्याप्त पानी आएगा भी या नहीं।

अभी सोच की गाड़ी चल ही रही थी कि वर्तमान में आना पड़ा इस सोच के साथ कि अब क्या करें ? अभी सोचों से छुटकारा मिला ही था कि वह ‘सूँ-सूँ’ की आवाज़ भी बंद हो गई। वे एक बार उठे। नल के पास बड़ी आस लेकर गए। लेकिन पानी को नहीं आना था तो वह नहीं ही आया। निराश होकर नल की टोंटी पकड़कर वहीं धम्म से बैठ गए। उनके दिल की धड़कन तेज हो गई। तरह-तरह की बातें मस्तिष्क में उमड़ने-घुमड़ने लगी थीं।

पिछली बार ऐसे समय में ही चार रिश्तेदार आ धमके थे। टैंकर से पानी लाना पड़ा था। पन्द्रह सौ रुपये लाला से उधार लिये, सौ पे चार रुपये महीने पर। गर्भवती महिला की तरह नौ महीने तक सूद का दर्द सहते रहे थे। अब हिम्मत टूट गई है। कल छोटे भाई का परिवार अपने बच्चों के साथ गर्मियों की छूट्टी बिताने आने वाला है। अब क्या होगा ? साँस धौकनी की तरह चलने लगी।

पत्नी घबरा गई। ‘सुनिए जी चिंता मत कीजिए सब ठीक हो जाएगा’ कहकर उन्हें सांन्त्वना देने लगी, लेकिन चक्रधर बाबू पर सोचों का बोझ भारी होता जा रहा था। अब उनकी पत्नी के हाथ में कुछ भी नहीं बचा था। वह उन्हें उटा-पुठाकर अस्पताल ले गई। अस्पताल में भीड़ थी। चिकित्सक एवं नर्स भी आपस में झगड़ रहे थे। वहाँ भी पानी की दरकार थी। नर्सों ने पानी के अभाव में चिकित्सकों की मदद करने से मना कर दिया था। इंतज़ार बहुत कम ही बार अच्छी होती है। चक्रधर बाबू के लिए यह इंतज़ार अत्यधिक काली थी। उनकी पत्नी के लिए अंधकारमय। इस इंतज़ार ने उनकी ही साँस की डोर तोड़ दी।

पानी ने एक और जान ले ली। अखबार वालों ने फिर एक छोटे से कॉलम में जगह दी। आम बात थी। विरोधी पार्टी के विधायक ने मामले को धर दबोचा। मौका हाथ से जाने देना नेता का काम नहीं है। उसके बाद चर्चा होने लगी। प्रशासन हाय-हाय के नारे लगने लगे। सहसा प्रशासन सोये से जगा। अश्वासनों के दौर चले। कहा गया कि देखते हैं क्या कर सकते हैं। खोज-बीन चल रही है कि पानी का पाइप कहाँ से लीक कर रहा है। इंजीनियर लगाए गए हैं। सभी जी-जान से कार्य में जुटे हैं। साथ ही हम खंडन करते हैं। हम पर गलत आरोप हैं। हमने किसी की जान ली। अगर आवश्यकता पड़ी तो इस पर भी जाँच कमेटी बैठाई जाएगी। हमारा काम सबको पानी पिलाना है, जो हम मुस्तैदी से करते आए हैं और करते रहेंगे। यही हमारा वादा है और यही मिशन भी।

फिर तीन दिन बाद पानी आया। सब भूल गए कि चक्रधर बाबू नहीं रहे थे। उन लोगों को पानी की तलाश थी, जो अब पूरी हो गई थी। बस उनकी पत्नी का सबकुछ खो गया था। वह जब भी नल के टोंटी को देखती, उसे पकड़कर रोती और कहती - ‘पानी हाय रे पानी’।

विश्वजीत 'सपन'

बुधवार, 7 मार्च 2012

एक लेखक की दास्तान


एक लेखक की दास्तान
प्रामाणिकता की जंग




भारत देश में लेखकों की कमी है। यह बात मुझे तब पता चली, जब हूबहू मेरी ही रचना एक प्रतिष्ठित पत्रिका में किसी और के नाम से छपी। आश्चर्यमिश्रित सदमे से मैं बेहाल हो गया। सोचने-समझने की शक्ति का बुरा हाल हो गया। दरअसल बहुत दिन हो चुके थे। मैं लगभग भूल ही चुका था कि मैंने वह रचना उस प्रतिष्ठित पत्रिका को कब भेजी थी। किन्तु पढ़ते ही आँखों के रेटीनी परदे पर स्पष्ट चित्र उभर आए। कंप्यूटर खोलकर देखा। पता चला कि आठ महीने पहले भेजी थी इस आस में कि संभवतः संपादक जी को पसंद आ जाए। उन्हें पसंद भी आई। जिसकी खुशी थी, किन्तु रचनाकार की जगह अपना नाम न देखकर सदमा गहरा लगा। सौभाग्य से स्वास्थ्य अभी अच्छे हाल में था, अन्यथा दिल का दौरा पड़ना कोई बड़ी बात नहीं होती।

असल में इस बेतरतीबी के इस युग में सबकुछ उलट-पुलट हो चुका है। समय ही नहीं है किसी के पास। विशेषकर दूसरों के लिए और दूसरों की समस्याओं के लिए। फिर बड़ी और प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं और विशेषकर उनके संपादकों के पास तो और भी नहीं। पहले यानी कुछ दशक पहले जब कोई रचना अस्वीकार की जाती थी तो वह सखेदवापस अवश्य की जाती थी। मेरे साथ भी ऐसा हो चुका था। एक बार नहीं अनेक बार। दुःख होता था, परन्तु सदमा नहीं लगता था। आजकल यह प्रथा बंद कर दी गई है। अब आप रचना भेजकर आराम से भूल जाइए और इंतज़ार करते-करते अपनी उम्र बढ़ा लीजिए। छपने के आसार तो कम ही होते हैं, सखेद वापस आने का तो है ही नहीं क्योंकि प्रथा ही मिट गई है। मैं भी इसी भूल में बैठा हुआ था कि चाहे वह वापस आए न आए लेकिन रचना तो मेरी ही है और एक ईमानदार लेखक की भाँति आशावान् बना रहा था। कभी न कभी संपादक जी की उड़ती-उड़ती नज़र तो पड़ेगी ही। और इसी कारण किसी अन्य पत्र-पत्रिकाओं में नहीं भेज सका था।

किन्तु, यह घटना असह्य थी। मेरा अनुभव मुझे ही काटने आ रहा था। क्या ऐसा भी हो सकता है? यह प्रश्न मेरे दिलो-दिमाग पर ऐसे-ऐसे प्रहार कर रहा था कि जैसे सैंकड़ों छुरियाँ बार-बार उन्हें खुरच रही हों। मैं सोचने-विचारने पर मजबूर था कि अब क्या किया जाए? रचना तो मेरी है, लेकिन किसी और के नाम से छपी है। तो फिर कैसे अपनी रचना को अपनी कहा जाए? समस्या गंभीर थी, लेकिन अनूठी थी।


शुक्रवार, 13 जनवरी 2012

सबसे स्वादिष्ट अचार : भ्रष्टाचार (हास्य-व्यंग)

सबसे स्वादिष्ट अचारः भ्रष्टाचार

(मित्रों, प्रस्तुत हास्य-व्यंग सौम्या टाइम्स नामक समाचार पत्र में वर्ष २००९ में प्रकाशित हो चुका है और इसे लोगों ने बहुत पसंद किया है. थोड़ा-बहुत संशोधन सहित यह लेख आपके लिए पुन: प्रस्तुत है. )

आपको संभवतः पता हो अथवा न हो। ‘ट्रान्सपेरेन्सी इन्टरनेशनल’ नामक एक संस्था ने अपने एक शोध में बताया है कि वर्ष 2005 में पाया गया था कि पूरे भारतवर्ष में लगभग पैंतालीस प्रतिशत लोग ऐसे थे, जिन्हें नौकरी प्राप्त करने में घूस देने अथवा किसी न किसी के द्वारा प्रभावित करने का अनुभव प्राप्त था। पचास प्रतिशत से अधिक लोग ऐसे थे, जिनका अनुभव कहता था कि समस्त प्रकार के सरकारी प्रतिष्ठानों में बिना घूस अथवा पैरवी के कोई काम नहीं होता था। उसके बाद वर्ष 2010 में इसी संस्था ने बताया कि एक सौ अठत्तर भ्रष्ट देशों की सूची में भारत का स्थान सत्तासी था। अब आज जब भ्रष्टाचार पर इतनी अधिक बातें होने लगी हैं, देश भर में अन्ना-अन्ना की गूँज उठ रही है और आम जनता इस मसले के बारे में सोचने की इच्छा रखती है तो हमें यह जानने का सुअवसर प्राप्त होना चाहिए कि अब हम कहाँ हैं? कितने भीतर तक ध्ँसे हुए हैं? क्या हमारा उद्धार संभव है? ऐसा क्यों है? इसका कारण क्या है? आदि-इत्यादि सभी कुछ जानने के लिए बुद्धिजीवियों ने बहुत दिमाग लगाया। सभाएँ कीं। विश्लेषण किए और कुछ निष्कर्ष भी दिए।
        लेकिन सुधि पाठको, हम आपको पहले ही बता देते हैं कि हम इन उलझनों में फँसने वाले नहीं हैं। हमें तो बस एक ही बात पर विचार करना है कि सबसे अच्छा अचार कौन-सा है? भ्रष्ट + अचार = भ्रष्टाचार। कृपया संधि के नियमों पर न जाएँ, अन्यथा मुझे बहुत कष्ट पहुँचेगा। तो स्पष्ट है कि आप गुरुजनों से मेरा विनम्र आग्रह है कि इस बात को समझिए कि इन बुद्धिजीवियों के निष्कर्ष कैसे थे और क्या थे, इस पर अन्यथा बहस करने से कोई लाभ नहीं है क्योंकि यह अचार हम सदियों से खाते आ रहे हैं और आगे भी खाते ही रहेंगे। वैसे भी भ्रष्टाचार का अमृत अनादि काल से भारतवर्ष में उपस्थित रहा है। आप नहीं मानेंगे तो हम आपको इस कथा से परिचित करवायेंगे।
        यह कथा रामायण काल की है। ऐसा कहा जाता है कि एक बार रावण एक ब्राह्मण का वेश धारण कर नर्क देखने के लिए गया। वहाँ उसने देखा कि सभी पापियों को तरह-तरह के दण्ड दिए जा रहे थे। उन्हें तरह-तरह से यातनाएँ दी जा रही थीं और इस हेतु बहुत प्रकार के उपकरणों आदि के प्रयोग भी किए जा रहे थे। एक स्थल पर एक बहुत बड़ी कढ़ाई रखी थी, जिसमें तेल उबल रहा था, किन्तु किसी भी पापी को उसमें नहीं डाला जा रहा था। रावण को जानने की इच्छा हुई कि ऐसा क्यों था।