Followers

सोमवार, 7 अप्रैल 2014

मन की बात (भाग – २ )



न्याय और पक्षपात
============

न्याय और पक्षपात में बहुत कम का अंतर होता है
। यदि हम ध्यान से देखें तो ये एक ही सिक्के के दो पहलू हैं । जब हम बिना दूसरे का पक्ष सुने या उसे जाने ही निर्णय देते हैं तो यह पक्षपात होता है क्योंकि तब हम सिक्के के एक ही पहलू पर गौर करते हैं । वस्तुतः हमारा प्रयास होना चाहिए कि हम दूसरा पहलू भी जानें और उसके बाद ही निर्णय लें कि सत्य क्या है । कई बार ऐसा होता है कि जब हम बिना किसी प्रमाण के ही एक व्यक्ति की बात को स्वीकार कर लेते हैं क्योंकि हम उससे भावनात्मक रूप से जुड़े होते हैं । यह अवश्यम्भावी है क्योंकि हम सभी मानवीय कमियों से विवश हैं, किन्तु क्या यह उचित है ? यदि हम न्याय-प्रणाली को समझें तो वहाँ यही प्रथा है कि निर्णय से पूर्व दोनों पक्षों की बातें सुनी जाती हैं और उसके उपरान्त ही निर्णय लिया जाता है । यह आवश्यक है कि जब हम न्याय की कुर्सी पर बैठते हैं तो हमें भावनाओं में बहने का अधिकार नहीं होता है । हमें बारीक़ी से सच का आकलन करना चाहिए ताकि सच गुमनामी के अंधेरे में छुप न जाए । कहने का तात्पर्य यह है कि न्याय तभी संभव है जब दोनों पक्षों को सुनकर, जानकर और समझकर निर्णय किया जाए
 
पक्षपात एक ऐसा गहरा घाव है जो मानव को हमेशा के लिए तोड़ सकता है । उसे अमानवीय भी बना सकता है और इसलिए न्याय की ओर ही हमें क़दम उठाना चाहिए । यह कदापि हल्के में लेने का विषय नहीं है । यह एक गंभीर विषय है और इस पर हम सभी को अवश्य ध्यान देना चाहिए । एक तरह से देखा जाए तो यह आदत की बात होनी चाहिए । तात्पर्य यह कि बिना विशेष श्रम के ही हमें दूसरे की बात सुनने की ओर उद्यत हो जाना चाहिए और इसके लिए प्रारंभ में सश्रम प्रयास होने चाहिए । जब हम घर में भी एक बच्चे की बात यूँ ही मान लेते हैं और दूसरे की बात सुनते भी नहीं तो हम पक्षपाती निर्णय के दोषी होते हैं । इससे बचने के लिए हमें प्रयास कर दूसरे की बात सुनने की आदत डालनी चाहिए ।

पक्षपात असत्य का ढकोसला होता है वहीं न्याय सत्य का सुनहरा आँगन
यह हम मानव जाति पर निर्भर है कि हम आवेग में असत्य की ओर चलें अथवा संयत मन से सत्य की ओर यह बात भी एक कड़ुवा सत्य है कि पुकार-पुकार कर कहने अथवा रोने-धोने अथवा चीखने-चिल्लाने से सत्य नहीं मिटता है हाँ असमय में आप उसका गला घोंट अवश्य सकते हैं, किन्तु सत्य सत्य ही रहता है वह अडिग है इसलिए सत्य की खोज में, न्याय की ओर चलने का हमारा प्रयास हम सभी के जीवन को हमेशा के लिए सुखमय बना सकता है । एक निश्चयपूर्वक किया गया ऐसा श्रम ही मानव को मानव की श्रेणी में रखता है और आज मानव और मानवीयता के संरक्षण की महती आवश्यकता है ।

======================================== सपन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें